मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  विश्व साहित्य | संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

 

 

 

 

बुरा न मानो होली है

मुझे कुछ-कुछ याद है, मैं तीन साल की थीयानि मेरी याद में पहली होली, हम बरेली में रहते थे मैं स्कूल भी नहीं जाती थी मेरी छोटी बहन मिशी तब एक साल की थी उस दिन के एक दिन पहले रात को हमने होली जला कर पूजा की थी मम्मी ने पूजा करके मुझे गुझिया खाने को दी थी तब मैं नहीं जानती थी होली क्यों जलाते हैं, अब जानती हू, टीचर और मम्मी दोनों ने भक्त प्रहलाद की कहानी बताई है आपको मालूम है!

एक राजा हिरण्यकश्यप था, वह खुद को भगवान कहता था लेकिन उसका बेटा ईश्वर की पूजा करता था, इसलिये उससे नाराज होकर राजा हिरण्यकश्यप ने तरह-तरह से उसे मरवाने की कोशिश की कभी वह हाथी से कुचलवाना चाहता, कभी जंगल में फिकवा देता, मगर प्रहलाद को बार बार भगवान बचा लेते उसकी बुआ थी होलिका, उसको वरदान था कि वह आग से नहीं जलेगी एक दिन वह प्रहलाद को लेकर आग में बैठ गई कि प्रहलाद अब जल जाएगा और वह वरदान की वजह से बच जाऐगी, किन्तु उसके बुरे विचारों की वजह से प्रहलाद तो बच गया, होलिका जल कर मर गई और हिरण्यकश्यप को भी भगवान ने नरसिंह का रूप लेकर मार दिया तभी से हम होलिका के रूप में बुरे विचारों को जलाते हैं इसके पीछे एक और वजह है वह यह कि फागुन माह में फसलें पक कर तैयार होती हैं, इसकी खुशी में हम होली मनाते हैं

तब मैं ये सब नहीं जानती थी पर मुझे अच्छा लग रहा था जब रंग खेलने की बारी आई तो सुबह मम्मी ने पुराने कपडे पहनाए तो मुझे खराब लगा पर तब आश्चर्य हुआ जब हमेशा पानी में न खेलने देने वाली मम्मी ने एक पिचकारी दी और रंगीन पानी देकर मुझे लॉन में छोड दिया सबसे पहले मैंने अपनी ठुमुक-ठुमुक चलती बहन को पानी डाल कर रूला दिया, और आस पास की सारी जमीन रंग दी और मम्मी ने कुछ नहीं कहा!!

मम्मी टेबल पर मिठाईया और नमकीन लगा रही थी, पापा गुलाल प्लेट्स में निकाल रहे थे तभी बहुत सारे अंकल और आंटी आकर मम्मी-पापा पर रंग लगाने लगे, पहले तो मैं डरी फिर मजा आने लगा बहुत से बच्चे भी पिचकारिया लेकर आए थे, हम एक दूसरे पर पानी डालने लगे लेकिन मम्मी की गोदी में मेरी बहन मिशी डर कर रोए जा रही थी सब होली है! होली है! कह रहे थे तब मैंने जाना ये होली है, इस दिन सारी बदमाशिया माफ होती हैं

कनुप्रिया कुलश्रेष्ठ
मार्च 1, 2001

कनुप्रिया आठ वर्ष की है, उसे किताबें, प्रकृति और कार्टून बेहद पसंद हैं

 

इस लेख के साथ बना चित्र कनुप्रिया की छोटी बहन अवनि कुलश्रेष्ठ ने बनाया है क्योंकि उसे पसंद है ड्राईंग और कम्प्यूटर

Top
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  विश्व साहित्य | संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2012 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manisha@hindinest.com