मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

दीपावली की शुभकामना

जीवन पथ में चलते–चलते. परिजन प्रियजन का प्यार लिये ।
सुख दुख की आँख–मिचौली में. आँगन में सदा बहार लिये ।
हम रहे व्यस्त इतना लेकिन. जब चाहा तुम्हें पुकार लिये ।
मेरे मन में यूँ ही रहना. नयनों में सदा दुलार लिये ।
दीपों का पर्व तुम्हें शुभ हो. घर आंगन खुशियाँ ले आये।
दुख के अँधियारे दूर भागें. विपदायें सारी ले जायें ।
नभ से ऊंची हो ख्याति सदा. तुम सबके प्यारे रहो सदा ।
मान और सम्मान बढें. तुम स्नेह सलिल में बहो सदा।
जो चाहो सब कुछ मिल जाये. आदर्श बनो तुम जीवन में ।
अनुकरण तुम्हारा सभी करें. तुम सदा रहो सबके मन में ।
मेरी खुशियाँ भी तुम्हें मिलें. उज्जवल हो आने वाला कल ।
स्वर्णिम गाथा तुम बन जाओ. मन. वचन. कर्म से रहो "विमल"

– सुरेश चन्द्र विमल
 

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2015 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manishakuls@gmail.com