मुखपृष्ठ  |  कहानीकविता | कार्टून कार्यशालाकैशोर्यचित्र-लेख |  दृष्टिकोणनृत्यनिबन्धदेस-परदेसपरिवार | फीचर | बच्चों की दुनियाभक्ति-काल धर्मरसोईलेखकव्यक्तित्वव्यंग्यविविधा |  विश्व साहित्य | संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home | Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

   

 

 

दरबान

आज कुछ नहीं है उस कोठी के अंदरपर वह ज्यों का त्यों दरवाजे के पास कुर्सी बिछा कर बैठा है

कभी बहुत कुछ था, जिसकी हिफाज़त उसे करनी थीपहले यह उसका सिर्फ धर्म थाअब हिफाज़त उसका स्वभाव बन गया हैक्योंकि उम्र भर उसने एक ही काम किया है - हिफाज़तघर की, व्यवसाय की, और परी की

हां पहले यहां एक परी रहती थी एकदम चांदनी की तरह उजली, बेदागमुखडा पूनम के चांद की तरह दिपदिपाता थाजिस्म ऐसा ढला था जैसे किसी मंजे हुए कलाकार की सर्वोत्तम कृतिमहीन कता हुआ जिस्म, छरहरा पर गुलाबीपन लिये

उसने मन मोह लिया था ऐसे कि वह अपना आप सब भूल गयापरी उसे चाहिये ही थी परी के बिना वह जिंदा नहीं रहेगा परी उसकी हो जाये बसउसको अपनी बना कर रहेगा

परी तो भोली थीनिर्दोषउसे दुनिया - दीन की खबर ही नहींबीसवां लगा थाकॉलेज खत्म ही हुआ थासोचती थी वह और पढक़र पढाएगी

वह अपना बडा सारा नोटों का पुलिन्दा लेकर हाजिर हो गया परी के संरक्षकों के दरबार में

और वह परी को ब्याह कर ले आया

एक दिन वह परी के एक सुंदर सी पहाडी पर ले गयानीचे झील बह रही थीआस पास ढेर सारे रंग्बिरंगे फूल खिले थेउसने ढेर सारे फूलेंा की पंखुरियों से परी के जिस्म को ढक दियाफिर उसका एक एक पैर चूमता रहा उसकी छातियों के गिर्द उसकी जंघा के बीच पंखुरियां सजाता रहाउसने परी की आंखों को पंखुरियों से ढक दियाउसके ओठों को मकरंद से सी दिया ढेर सारे फूल उसके जूडे में खोंस दिये परी का पूरा जिस्म एक गुलदस्ते सा दीख रहा थाउसने वह गुलदस्ता हाथ में उठाया और जोर से अपनी बांहें में भींच लियासारे फूल पंखुडियां मसल कर बिखर गयेवह खूब हंसा, खूब् खुश था और परी उसके खेल के निहारती रही

''परी ! परी कहां हो? कुछ बोलो तो! मुझसे प्यार करो परी! ''
वह जब परी से ऐसे खिलवाड क़रता तो परी के अच्छा लगता। वह धन्य सी हो जाती। पर परी अपने मुंह से कुछ कहती नहीं। वह जैसे आत्ममुग्ध सी रहती थी।अपने में भरीपूरी। तुष्ट थी।
भीतर कौन जाने क्या उठता हो, बाहर से हमशा तुष्ट दीखती।
क्यों तुष्ट दीखती थी परी हमेशा?
यह भी कोई परी का ही रहस्य था। परी किसी को अपना रहस्य जानने नहीं देती। परी की मां ने उसे बतलाया था कि सुख मानने में है।और वह मान बैठी थी कि वह सुखी है। शायद तभी वह तुष्ट थी।तन्मय थी।तपस्विनी थी।प्रेम उसकी पृकृति थी।

उसने परी को खूब सारे सुंदर से सुंदर कपडे, ग़हनों से मढ दियारोज परी को नयी साडी पहनाकर वह अपने दोस्तों के घर ले जाता, कभी क्लब ले जातासबको फख्र्र से दिखाता फिरता - अपनी जीत, अपना इनाम, अपनी दौलत!
परी तो फिर परी थी
चलती तो सारी धरती महकने लगती सबके नथुनों से टकराती खुशबू और वे खुश्बू का राज ज़ानने को आतुर हो जातेवह कुछ कहते तो परी मुस्कुरा देती शर्मीली मुसकानमुस्काना तो परी की फितरत थी न भी मुस्कुराये तो लगता कि मुस्कुरा रही हैगालों में भी मुस्कान के गङ्ढे स्थायी रूप से पडे रहते

एक बार परी के देस से एक छबीला जवान आ पहुंचा, सीधे घर आकर बोला कि वह तो परी का दूर के रिश्ते से भाई होता हैघर पर ही रहेगापरी के मां - बाप से ही पता लेकर पहुंचा हैपरी ने बडे उछाह से भाई का स्वागत कियादेर तक मायके की, बचपन की दुनिया में विचरती रही मेहमान भाई के साथ

बस उसके कान एकदम बारहसिंगा के सींगों की नोकों जैसे खडे हो गयेकमर में तलवार खोंस वह परी की निगरानी करने को उद्यत हुआबस उस दिन से वह परी का दरबान बन गया

नौजवान भाई से कहा गया कि वह उसके घर में कदम नहीं रख सकताअगर केई काम भी हो तो उसकी गैरहाजिरी में वह घर में नहीं घुसेगा

अकसर रात को जब परी गहरी नींद में सो रही होती, वह जागतारात - रात उसका चेहरा पढता रहतापरी नींद में मुस्कुराती वह निहारताफिर सहसा घबरा जाताक्यों मुस्कुराती है परी नींद में ? क्या कोई और हैजिसके बारे में सोचती है? क्या परी उसे प्यार करती है?

वह परी को झिझोंडक़र जगाता और पूछता - ''तुम प्यार करती हो मुझसे?''
परी निंदियायी सी मुस्कुरा देती और करवट बदल कर सो रहती

वह फिर जगाता उसे
वही सवाल
परी फिर मुस्कुरा कर पूछती - ''तुमको क्या लगता है? अपने आप से पूछो? ''
वह उसका चेहरा देखते हुए बुदबुदाता - '' अपने आप से?
मैं कैसे जान सकता हूं? तुम बतलाओबतलाओ करती हो?''
परी वैसी ही तुष्ट मुस्कान के साथ कह देती -''जब तक तुम अपने आप से नहीं जान पाओगे
मेरे कहने से कुछ नहीं होगा''
उस रात वह सारी रात यही पहेली हल करता जागा रहा

अगली सुबह वह परी से बहुत नाराज था भीतर कुछ भडक़ता रहा थाकुछ ऐसा महसूस होता रहा कि किसी नाजुक फूल को वह अपन्ी हथेली में भरकर मसल डालेया पिघले सोने जैसे किसी रूप को एक भद्दे आकार में गढ देकुछ ऐसा जो उसकी हथेली के बीचों - बीच हो, गिरफ्त में होवायवी या अमूर्त नहींजिसे वह उंगली से छू कर पहचान सकेजिससे किसी तरह भी, चाहे तो जबरदस्ती करके वह जवाब पा सके

वह सारा दिन अपने आप में परेशान घूमता रहाउसे हर वक्त तकलीफ सी होती रहती कि वह परी की असलियत जान क्यों नहीं पातापरी उसे प्यार करती है या नहीं कैसे जान पायेगा वह?

पूछा वही सवाल - ''मुझे प्यार करती हो?''
और परी का वही जवाब था - '' अपने आप से पूछो
''

परी मायके जाने को हुई तो वह बोला कि वह उसे अपने ही साथ ले जायेगा क्योंकि मायके में क्या पता कोई पहरेदारी न कर पाये

वह मायकेवालों के मिलने पर भी राशन लगा देताफोन पर तीन मिनट से ज्यादा बात नहीं की जायेगीत्योहार- तीजपर जब मिलने जाना होगा तो वही साथ ले जायेगा और वापिस लायेगापरी मायके में बिगड ज़ाती है बहुत चाय पीती हैचाय से उसके चेहरे की रंगत बिगड ज़ायेगी आदि - आदिअमानत तो उसकी है, उसी को बचाना है

परी यूं तो कहीं जाती ही नहीं घर की देखभाल करती, सिलती, बुनती, और पकवान बनातीबाजार जाना होता तो वह साथ ले जाताकभी अपनी मां या बहन की निगरानी में भेजता

फिर परी की गोद भर जाती हैपरी और भी बंध जाती है घर से
वह सवाल पूछता ही रहता है - ''मुझे प्यार करती हो?''
परी का जवाब होता है - ''अपने आप जानोगे, तभी जान पाओगे
''

परी वैसी की वैसी चांदी से धुले चांद की तरह निखरी, चमचमातीधानी साडी क़े आंचल से ढके स्तनों से बच्चे को दूध पिलाती तो ऐसा लगता धरती की सारी हरियाली उसमें समा गयी हो!

बच्चे बडे होने लगते हैंपरी उनसे ऐसे खेलती जैसे वह भी उन्हीं की तरह हो - खिलखिलाती, गोल - गोल चक्कर लेती चक्करघिन्नी की तरहलुकाछिपी खेलतीकभी लोरी गाते - गाते उनके साथ सो जाती
वह आता और परी को अपने नन्हें फरिश्तों के साथ बेखबर सोता निहारता
उसे लगता परी अब भी नींद में मुस्कुरा रही हैफिर सोचता अब कौन है परी के सपनों में? क्या उससे या इन फरिश्तों से आगे, अलग, कुछ हो सकता है परी के सपनों में!

वह उसे जगातापूछता - ''मुझे प्यार करती हो?''
परी मुस्कुरा देती

वह फिर पूछता : परी वही जवाब देती - '' अपने आप से पूछो
''
उसका मुंह सवाल के ही अंदाज में खुला रहता तो परी कहती -'' अभी तक उसने तुमसे कुछ नहीं कहा?''
वह सोचता सा देखता रहता
परी मुस्कुरा देती
पर वह वसंत की कच्ची हरियाली की मुस्कान नहीं थी

अब परी की मुस्कान में गीली उमस भरी थकान थी

फिर अचानक उस पर पहाड टूटाव्यवसाय ठप्प हो गया वह देस - देसावर भटकाफिर काम के चक्कर ने उसे बहुत दूर देश में जा पटका

अब पहरेदारी का काम दुगना हेगया दिन भर एक खजाने की रखवाली करनी होती उसे अपने घर के खजाने की रखवाली की फिक्र लगी रहती

अब वे फरिश्ते उसके दूत बन गये थे उसकी दुगुनी, चौगुनी, अठगुनी आँखें।
अब वे परी की निगरानी करते
वह उनसे पूरी - पूरी दिन की रिपोर्ट लेतामहल में कौन आया था, कौन गयाकिससे फोन पर बात हुई

परी को परदेस में बडा सूना लगता न वैसा आंगन, न वैसी पहचानी अमराईन ही बेला - चमेली की खुशबूदार कलियांन वैसी शाम या शाम के साथ लाने वाले क्लब और दोस्तों की महकवह उदास हो जातीवह घर आता तो कहती - '' मैं भी बाहर काम करुंगीबच्चे स्कूल चले जाते हैंतुम खज़ाने पर मुझे ये दीवारें, कुर्सियां मेजें, फ़ानूस और रेशम के परदे काटने को दैडते हैंइन्सान की सूरत नहीं दीखती दम घुटता है''

उसे डर लगने लगायह क्या हो रहा है परी कोयह तो हाथ से निकलना चाहती हैपरदेस में पता नहीं कैसे कैसे लोग बसते हैंकोई भगा ले गय तो क्या करेगा

अब तो परी एकदम पूनम का चांद हो गयी हैपहले तो दूज तीज का चांद ही थी हर साल जब एक - एक कला जुड क़े संपूर्ण हुई है तो अपनी ऐसी बेशकीमत परी को वह भला कैसे जाने दे सकता है

''तुम बच्चों को स्कूल छोड आया करो। उतना बाहर जाने से ठीक होगा। चेहरे भी दीख जायेंगे। हवा का सेवन भी हो जायेगा।''

परी स्कूल जाती, रास्ते में कुछ खरीदारी करने लगतीएक दिन एक ग्राहक परी के पीछे - पीछे उसका सामान उठाने में मदद करता उसके घर तक पहुंच गया तो उसने दूर से देख लियाबस परी पर झपटा ''यार बना लिये हैं तूनेकोई स्कूल नहीं छोडने जायेगी बहाने से यारी लगाती है?''

उस दिन उसने परी के पीटा, इतनी जोर से धक्का मारा, परी पीठ के बल ऐसे गिरी कि उसकी रीढ क़ी हड्डी अपनी जगह से खिसक गयी

परी बिस्तर पर पड ग़यी तो उसका मन कुछ दुखापर उससे ज्यादा तसल्ली हुई कि अब वह कहीं बाहर नहीं जायेगीन जाने की इच्छा जाहिर कर पायेगी

वह उसे खुद नहलाता धुलाताउसकी कमर की मलिश करता उसकी टांगें दबाता खज़ाने से भी बार बार फोन करके पूछता रहताफिर घर आकर उसके सिरहाने बैठ जातापरी दर्द की शिकायत करती तो उसे दवा खिलातागरम सेंक देतावैद्य के पास ले जाता वह अब बैठ नहीं पाती थी इसलिये न तो सिनेमा जाती न पार्टियों में

परी अब धीरे धीरे उस फूल की तरह मुरझाने लगी जिसे न कभी ताजा हवा पानी मिलता है न धूपउसका चंदनी सा उजला रूप अब मटमैला पडने लगाउसकी सुघड सुडौल कमल नाल सी तन्वंगी देह कुम्हलाने लगीखाल का गुलाबीपन पीलक में बदलने लगागेसुओं का रेशमीपन सूखे पत्तों की तरह रूखा होने लगावह खूब मालिश करता उसके जिस्म की पर वह गुलाबीपन लौटता ही न था

वह रोज उसके लिये ताज़े गुलाब मंगवाता चहकते - महकते गुलाबों से परी के जिस्म को दुलराता, गुलाब के इतर को परी के जिस्म पर रगडता पर परी गुलाबी होने को न आती

परी का कमजोर शरीर जलती मोमबत्ती की तरह घुलने लगा

उसने आर्युवेद, होम्योपैथी, जंतर मंतर सब कुछ चाट डालाहारकर एलोपैथी के डॉक्टरों को बुलायापता न्हीं कैसा रोग था कोई इलाज नहीं हो सका

उसने नौकरी छोड दी, और चौबीसों घंटे परी के दरबार में कुर्सी बिछाकर बैठा रहता

अपने हाथ से साडी ज़म्पर पहनाता उसकी चोटी गूंथताउनमें फूल लगाताबिस्तर की चादर बदलता परी का हर काम अपने हाथ से करता
परी का चेहरा बुझा बुझा रहता
जिस्म के पोर पोर में चीखता दर्द ज़ुबान पर कभी न आतापरी चलना भी भूल रही थी उसे कमरे में ही सहारा दे चलाता एक फीकी मुस्कान दे परी की आंखें दर्द से बंद हो जातींयूं ही पडी रहती सारा दिन परी तो अब उठ कर पानी भी नहीं पी सकती थीवह खुद उसके लिये खाना बनाता, सूप पिलाता, फलों का रस पिलाता

परी की सारी ऊर्जा बहते नल के नीचे पडी साबुन की टिकिया की तरह घिसती जा रही थीन वह हाथ ऊंचा उठा पाती बिस्तर पर उठकर बैठना ही मुहाल हो गया था
वह उसे चम्मच - चम्मच जूस पिलाता, पानी पिलाता, चाय पिलाता

फिर उसने चम्मच भर पीने से भी न कर दी
गले से नीचे कुछ उतरता ही न था

एक दिन यूं ही आंखें बंद किये चुपचाप हो गयी परीवह परी के जिस्म को ताकता रहा घटोंपर परी ने उसकी निगाह वापिस न की
उसने घबरा कर बुलाया डॉक्टर को

डॉक्टर ने कहा - ''अब वह जागेगी नहीं
परी नहीं है वह चली गयी''
वह माना नहीं - ''परी जा कैसे सकती है? '' वह तो उसकी रखवली से कतई चूका नहीं
पल भर भी उस पर से निगाह नहीं हटायी फिर वह गयी कैसे?

उसे आज भी विश्वास नहीं होता है कि उसकी इतनी कडी निगरानी के बावजूद कोई आंख बचाकर निकल सकता है!

वह अब भी दरवाजे पर कुर्सी बिछा उसी तरह उसकी रखवाली में लगा रहता है
कभी कुर्सी उसके बिस्तर के पास खिसका लेता है तो कभी ठीक दरवाजे के पास कि कोई अंदर आकर उसकी परी को उससे दूर न ले जायेहर हफ्ते उसके बिस्तर पर साफ सुथरी सफेद चादरें बिछाता हैअपलक ताकता रहता है जैसे परी वैसे ही लेटी हो, उस साफ सुथरी चादर पर - चुपचाप, निष्पाप

उसे अभी तक अपने सवाल का जवाब नहीं मिलाउसे बार - बार परी का वही जवाब सुनायी देता रहता है - ''अपने - आप से पूछो ? अपने आप जान लोगे....तभी जान पाओगे अपने - आप से पूछो '' 

सुषम बेदी
मई 21, 2003

Top    

Hindinest is a website for creative minds, who prefer to express their views to Hindi speaking masses of India.

             

 

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  विश्व साहित्य | संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2012 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manisha@hindinest.com