मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | फीचर | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  विश्व साहित्य | संस्मरण | सृजन स्वास्थ्य | साहित्य कोष |

 

 Home |  Boloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact | Share this Page!

 Click & Connect : Prepaid International Calling Cards 

You can search the entire site of HindiNest.com and also pages from the Web

Google
 
चैनल्स  

मुख पृष्ठ
समाचार
कहानी
कविता
कार्यशाला
कैशोर्य
चित्र-लेख
दृष्टिकोण
नृत्य
निबन्ध
देस-परदेस
परिवार
फीचर
बच्चों की दुनिया
भक्ति-काल धर्म
रसोई
लेखक
व्यक्तित्व
व्यंग्य
विविध
संस्मरण
सृजन
स्वास्
थ्य
साहित्य कोष
 

 

 

 

भाषाई अवरोध

वह दिन अब ज्यादा दूर नही है जब भाषाई कफ़स से इन्सान आज़ाद हो ज़ायेंगे ! जब भाषाओं की दीवारें और भाषाई अवरोध हट जायेंगे,तब , एक अच्छे वातावरण का निर्माण होगा और वसुधैव कुटुम्बकम् की धारणा सार्थक होगी , हिंसा और वैमनस्य पराजित होंगे, ऐसे ही माहौल में भारत विश्वशक्ति कहलाएगा और विश्वशांती का हेतु होगा, अगर कभी ऐसा परिपूर्ण साफ़्टवेयर सुलभ हो जाये जो तमाम भाषाओं का परस्पर अर्थ करके अनुवादित कर जोड़ सके और त्वरित संप्रेषण भी हो तो हमारे भारत का समृद्द् भारतीय दर्शन और संस्कृति अन्य भाषाई क्षेत्रों /देशों के लोगों में फ़ैल सकेगी और निश्चित ही सुग्राह्य होगी ; यहाँ मैं स्पष्ट करना यह चाहता हूँ कि जैसे हम हिन्दी भाषी है और अन्य भाषाओं पर पकड़ कमजोर है तब हमारी हिन्दी में कही गयी बात उक्त साफ़्टवेयर के द्वारा एकदम सहीं तुरन्त उस भाषा मे अनुवादित हो सके जो कि सामने जिस-से वास्ता है उसकी भाषा है तो वह उसे समझ कर अपनी भाषा में जो कुछ व्यक्त करे वह हम तक हमारी भाषा में पहुंचे तो ठीक से संभाषण शुरु हो जायेगा और विचार जाने जा सकेंगे, परिमार्जन हो सकेगा, बहुत कुछ हम दे सकेंगे और कुछ प्राप्त भी हो सकेगा ।

हमारी समृद्द् संस्कृति और वैचारिक दर्शन हमारी विरासत है, इसे हमने सहेज रखा है । भले ही हम आर्थिक दृष्टि से विकासशील हो लेकिन इस क्षेत्र में हम प्रचुरता से विकसित है । वैश्वीकरण के इस दौर में बढ़ती हुई रफ़तार ने दूरियां कम कर दी है , यह सही है कि हमारे आर्थिक ढ़ांचे की मजबूती हमारे विचारों के ठीक तरह से प्रसारण पर निर्भर है और भाषा का विकास से सीधा संबंध है , किसी भी पहलू पर जब हम अपने दृष्टिकोण भलीभाँती स्पष्ट करने में सफ़ल होंगे तभी लक्ष्य पा सकेंगे, ये हमारी आवश्यकता है अतैएव इस दिशा मे हम धीरे-धीरे आगे सरक रहे है, यदि हमारे नीतिकार इस बात को गंभीरता से समझें और इस दिशा में महती कार्ययोजना बने तो हम अपने लक्ष्य की ओर गति से आगे बढ़ सकते है ।

पुरुषोत्तम अग्रवाल
अक्टूबर1,2007

Top

मुखपृष्ठ  |  कहानी कविता | कार्टून कार्यशाला कैशोर्य चित्र-लेख |  दृष्टिकोण नृत्य निबन्ध देस-परदेस परिवार | बच्चों की दुनिया भक्ति-काल धर्म रसोई लेखक व्यक्तित्व व्यंग्य विविधा |  विश्व साहित्य | संस्मरण | सृजन साहित्य कोष |
प्रतिक्रिया पढ़ें! |                         प्रतिक्रिया लिखें!

HomeBoloji | Kabir | Writers | Contribute | Search | Fonts | FeedbackContact

(c) HindiNest.com 1999-2009 All Rights Reserved. A Boloji.com Website
Privacy Policy | Disclaimer
Contact : manisha@hindinest.com